बिहार – आइटीआइ परीक्षा रद्द 31 जनवरी को हुई थी परीक्षा

Bihar News

न्यूज़ फ्रंटलाइनर वेब डेस्क:-23 फरवरी 2019

राज्य में 31 जनवरी को हुई आइटीआइ की इंजीनियरिंग ड्राइंग की परीक्षा रद्द कर दी गयी है. केंद्र सरकार ने गुरुवार को इस संबंध में श्रम विभाग को पत्र भेजा. परीक्षा केंद्रों पर गड़बड़ी की शिकायत के बाद श्रम संसाधन विभाग ने 30 और 31 जनवरी को हुई परीक्षा रद्द करने की अनुशंसा केंद्र सरकार को भेजी थी. रद्द होने के बाद 30 जनवरी की परीक्षा अब दोबारा ली जायेगी. इसके लिए अब विभाग के स्तर पर प्लानिंग करके केेंद्र को भेजा जायेगा. वहीं, 30 जनवरी की परीक्षा रद्द की अनुशंसा पर दोबारा विचार करने के लिए केंद्र सरकार ने श्रम संसाधन विभाग को पत्र लिखा है. यदि श्रम विभाग दोबारा अनुशंसा भेजता है, तो 30 जनवरी की परीक्षा भी रद्द हो सकती है. प्रैक्टिकल में गड़बड़ी करने वाले 60 से अधिक सेंटरों से स्पष्टीकरण आइटीआइ परीक्षा के दौरान यह मामला भी सामने आया कि छात्रों का प्रैक्टिकल निर्धारित वक्त में सेंटर पर नहीं जमा हुआ. सेंटर ने बाद में छात्रों की जॉब फाइल जमा की थी. इसकी जांच 130 सेंटरों पर की गयी और मामला सत्य प्रमाणित होने पर शुक्रवार तक 60 से अधिक सेंटरों से स्पष्टीकरण मांगा गया है. अगर इनका जवाब 20 दिनों के अंदर नहीं आया, तो इन सेंटरों पर कार्रवाई की जायेगी. बाकी सेंटरों पर जांच की प्रक्रिया चल रही है. यह था पूरा मामला आइटीआइ परीक्षा के दौरान राज्य में खुलकर धांधली होने की शिकायत आयी और प्रश्नपत्र लीक होने का मामला भी सामने आया है. परीक्षा के पहले दिन पहली में 232 व दूसरी पाली में 428 छात्रों को निष्कासित किया गया था. निष्कासित छात्रों की अधिक संख्या को देखते हुए 50 से अधिक सेंटरों पर जांच की गयी, जिसमें बड़ी गड़बड़ी सामने आयी है. नियोजन एवं प्रशिक्षण निदेशक धर्मेंद्र सिंह ने बताया कि राज्य में 31 जनवरी को आइटीआइ परीक्षा रद्द कर दी गयी है. राज्य सरकार की ओर से परीक्षा रद्द करने के लिए अनुशंसा की थी, जिसके बाद केंद्र सरकार ने गुरुवार को पत्र भेज दिया. रद्द हुई परीक्षा दोबारा से ली जायेगी. मंत्री के खिलाफ दिल्ली में प्रदर्शन की तैयारी प्राइवेट आइटीआइ कॉलेज श्रम संसाधन मंत्री विजय सिन्हा के खिलाफ दिल्ली में धरना देने की तैयारी कर रहे हैं. विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक मंत्री से मिलने प्राइवेट कॉलेजों के प्रबंधक आये थे, लेकिन जब उनको कदाचारमुक्त परीक्षा लेने को कहा गया, तो कॉलेज प्रबंधकों ने इसको लेकर आपत्ति दर्ज कराते हुए कहा कि हमारे सेंटर पर परीक्षा में कदाचार नहीं होता है. जब वार्ता में बात नहीं बनी, तो आंदोलन करने की बात कह कर चले गये. दूसरी ओर मंत्री विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि आइटीआइ परीक्षा कदाचारमुक्त होगी. परीक्षा में किसी तरह की धांधली नहीं हो, यह छात्रहित में है. इस मामले में कोई समझौता नहीं होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *