दोस्तों ने बुलाकर दिया था अंजाम

News

न्यूज़ फ्रंटलाइनर वेब डेस्क:- 21 फरवरी 2019
प्र्रेम प्रसंग को लेकर दो दिन पूर्व मांझी थाना में की गयी युवक की हत्या का आरोपी को एसआईटी ने मांझी थाना के सहयोग से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। युवक के परिजनों द्वारा अज्ञात व्यक्ति के विरूद्ध स्थानीय थाना में प्राथमिकी दर्ज कराया गया था, मृत युवक मेहंदीगंज गांव का निवासी था। सारण के पुलिस कप्तान हर किशोर राय ने गुरूवार को अपने कार्यालय कक्ष में आयोजित प्रेस वार्ता में दी। एसपी ने पत्रकारों को बताया कि दो दिन पहले माझी थाना अंतर्गत फतेहपुर सराय गांव के सुनसान चंवर से एक युवक का शव बरामद हुआ था, जिसकी पहचान परिजनों द्वारा धुरन्द्र कुमार के रूप में की गयी। पुलिस कप्तान हर किशोर राय ने मांझी थाना कांड संख्या 36/19 के अनुंसधान के लिए एसआईटी का गठन कर त्वरित कार्रवाई का निर्देश दिया था। तकनीकी अनुसंधान के माध्यम से मात्र 48 घंटा में ही हत्या का उदभेदन हो गया। इस हत्या कांड का आरोपी युवक की गिरफ्तारी के बाद एसपी ने बताया कि मामला प्रेम प्रसंग का था, गिरफ्तार व्यक्ति वीरबहादुर सिंह मांझी थाना के मेहंदीगंज गांव का निवासी है तथा मृत युवक का दोस्त बताया है। एसपी सारण की माने तो पुलिस की हिरासत में हथकड़ी से जकड़े खड़ा युवक वीर बहादुर ने ही घर से बुलाकर धुरेन्द्र को मौत के घाट उतार दिया था। हत्यारा मृतक धुरेन्द्र चैधरी का मित्र है और मेहंदीगंज गांव का ही निवासी है। धुरेन्द्र ने वीरबहादुर की महबूबा की आपत्तिजनक स्थिति में फोटो खींच लिया था और उसे उस फोटो के सहारे ब्लैकमेल कर रहा था। महबूबा को ब्लैकमेल करने की सूचना मिलते ही वीरबहादुर ने खूनी योजना बना लिया और घर से बुला धुरेन्द्र को मौत के घाट उतार दियज्ञं
प्रेस वार्ता में आरक्षी अधीक्षक ने यह भी बताया कि वीर बहादुर सिंह के निशानदेही पर मृतक का मोबाइल व हत्या में की गयी इस्तेमाल में फसूली बरामद कर लिया गया है। हत्या के बाद इसे छिपा दिया गया था। गिरफ्तार अभियुक्त एक लड़की से प्यार करता था, अभियुक्त का दोस्त मृत युवक धुरन्द्र कुमार ने आपतिजनक तस्वीर खिच कर फेसबुक पर वायरल करने की धमकी दे रहा था। हर किशोर राय ने प्रेस वार्ता मंे यह भी बताया कि वीर बहादुर सिंह ने अपने दोस्त धुरेन्द्र कुमार को विश्वास में लेकर अपने रास्ते से हटाने की योजना बनाकर फतेहपुर गांव के सुनसान इलाके में बुलाकर दोस्त की हत्या कर उसका मोबाइल तथा हत्या में की गयी फहसूली को छिपा दिया गया। आरक्षी अधीक्षक के अनुसार इस हत्या के लिए गठित एसआईटी के टीम द्वारा तकनीकी अनुसंधान के बाद हत्या का सुराग मिला तत्पश्चात हत्यारा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। गिरफ्तार युवक का भी मोबाइल बरामद हुआ है। उन्होंने यह भी कहा कि कांड का जल्द ही अनुसंधान पूरा कर लिया जाएगा। एसआईटी टीम मे मुख्य रूप से पुलिस अवर निरीक्षक विनय कुमार एसआईटी पुलिस अवर निरीक्षक सह मांझी थानाध्यक्ष नीरज कुमार, एसआईटी मिथलेश कुमार तथा एसआईटी आरक्षी व थाना के सशस्त्र बल शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *